Recaptured’s Magazine Interview

Bucket lists make for interesting reads. They give an insight into the character and personality of the person who wrote it.

A middle class Indian boy like yours truly who grew up on a staple diet of books and magazines more than cable television has a particular kind of bucket list. So far two items had been crossed off it: getting published and lighting the lamp at a government institution’s festival. The former was a happy moment, the latter an embarrassing one. But that’s a story for another time. It’s time to tell you about the third item that has been ticked off the list.

3. Interview in a major national magazine

Pool is one of India’s leading creative arts & design magazines. And owing to the fact that it has been started by Sudhir Sharma himself, it’s immensely popular in the professional design community.

They have been kind enough to feature my interview in the March 2012 issue. You can contact them for purchasing a copy, or simply read the issue online here – the interview appears on page 12 onwards in the print magazine, which corresponds to page 14 onwards online.

Please read, comment and share 🙂

वागर्थ मिल गया!

हिन्दी साहित्य पढ़ते हैं? हां? कमाल है! कम लोग बचे हैं ऐसे. अरे मज़ाक कर रहा हूं!

ऐसा नहीं है. काफी हिन्दी साहित्य प्रेमी हैं आज भी, और इंटरनेट पर तो बहुत हैं. इतने सारे हिन्दी के ब्लॉग भी हैं.

पर एक कमी खलती रहती है – एक अच्छे हिन्दी मासिक की. धर्मयुग और पराग तो जाने कहां इतिहास में खो गये. एक कादंबिनी भी किसी स्टैंड में मिले, किसी में नहीं. लाइफस्टाइल मैगज़ीन और महिलाओं की हिन्दी पत्रिकाएं कहीं ज़्यादा बिकती हैं, बेशक.

जब कलकत्ते में था, कलकत्ता पुस्तक मेले का खास मुरीद था, और जिस ज़माने में ब्लाग का आविष्कार नहीं हुआ था, और यूनिकोड के प्रचलन से कहीं पहले जब मैं खास फॉण्ट की मदद से एक हिन्दी साहित्य की वेबसाइट चलाता था, उस ज़माने में भारतीय भाषा परिषद से परिचय हुआ. और यह पता चला कि आज भी हिन्दी साहित्य की दुनिया में कलकत्ता की महत्ता हैं, बेशक उतनी न हो जितनी ‘निराला’ और ‘मस्ताना’ के काल में थी. परिषद की मासिक पत्रिका वागर्थ से भी मैं तभी परिचित हुआ.

साहित्य, कला, और तकनीकी गुणवत्ता, सभी में वागर्थ अपने समकालीन हिन्दी मासिकों से कहीं आगे लगा मुझे. उस दिन से जनाब वागर्थ के फैन हुए. अपने घर में भी दो सब्स्क्रिप्शन्स लगवा दिए. और फिर कलकत्ते से रफू-चक्कर हो गये.

कभी-कभार कलकत्ते का चक्कर लगाते हुए किसी चाचा के घर जाना हुआ तो Reader’s Digest के साथ वागर्थ भी पढ़ता.

आज पता नहीं कैसे कुछ हिन्दी ब्लॉग पढ़ते हुए वागर्थ की याद आ गई, तो मन में सवाल उठा – कहीं वह भी तो और अच्छी हिन्दी पत्रिकाओं की तरह डब्बे में… गूगल देव से विनती की, और पाया कि vagarth लिखो तो पहला उत्तर भारतीय भाषा परिषद के साइट का लिंक ही आता है. क्लिक किया और पाया कि वागर्थ न केवल ज़िन्दा है, बल्कि हर माह बाकायदा प्रकाशित भी हो रहा है!

और सबसे आश्चर्य की बात यह थी, कि पूरे के पूरे संस्करण PDF रूप में मुफ्त उपलब्ध हैं. सन् 2010 के ही सही.

मैं तो अब इस साइट पर ही व्यस्त रहने वाला हूं. आपका क्या ख़याल है?

Incredible !ndia

Dear Editor,
The sweat was dripping down my face and into my lap, making my clothes very wet and sticky. I sat there, walking, watching. I was trembling violently as I sat, looking at the small slot, waiting – ever waiting…

Thus begins Douglas Adams‘ first known published work.

Well, here’s my first published (with credits) work:

Incredible !ndia is a publication of The Ministry of Tourism, Government of India. Nice magazine with good articles and (ahemm) photographs :-), but it’s a pity it can’t be found on newsstands. If you still want to check out a copy you’ll have to go to a MOT office.

Here’s the original photograph on Flickr:
the ride

Plagiarism?

Thanks to Prasad who pointed me to the following graphic which appears in Digit magazine‘s August ’08 issue DVD

Now I’d request you to see the following animation:

Do you notice something?

This animation was made in 2005, by three of us: Jhasketan Sethi, Sanchit Shinghal and me, Amit Sharma, for our institute’s management fest. I’m sure neither of us, nor the current managing team of the festival have been contacted by anyone related to the magazine for this.

Do you think it’s legally and ethically acceptable for such a reputed publication to copy steal creative content?