Posted by Amit
मच्छर, जैसे समाज है

जैसे आप अपनी ज़िंदगी जी रहे होते हैं, और भरसक कोशिश करते हैं, कि जो जीवन में करणीय है वह करते रहें, वैसे ही सोने की कोशिश कर रहा हूँ, क्योंकि अब रात का समय है, सोना चाहिये। और जैसे […]

Continue Reading
Posted by Amit
Marry a Girl of Your Caste

Inspired by the series of blogposts/articles which are titled “Date a girl who…”. Reading all these beautiful articles I thought there ought to be one that rings closer home, to the average Indian chap’s life. And I also tweeted about […]

Continue Reading
Posted by Amit
Outrage

सुबह-सुबह चायवाले को आवाज़ देने निकला तो देखा सामने दुबे जी के मकान के आगे पुलिस खड़ी है. होगा कोई चक्कर. ये प्रेस वाले तो ऐसे लफड़ों में फंसते ही रहते हैं. “इ धरिये चाय. और कल तक का दू […]

Continue Reading
Posted by Amit
Missing: English Vinglish

Earlier this year I saw Barfi! a couple of times, and realised that its screenplay was missing a crucial component: someone had to mouth the ultimate dialogue: जाते जाते बर्फी हमें जीना सिखा गया… Barfi’s writing just misses one dialogue: […]

Continue Reading
Posted by Amit
मुकुट

“कितना सुंदर राजमुकुट है अपने राजा का!” “हाँ, वो तो है. सारे जगत में इससे भव्य राजमुकुट और किसी देश का नहीं है.” “किलो भर सोना होगा, नहीं? हीरे-जवाहरात भी बहुत हैं. मोती-माणिक भी.” “और क्या? विदेशी कारीगरों से बनवाया […]

Continue Reading
Posted by Amit
Recycled: Spooky?

Surrounded by the dilemmas of whether recycling my blog posts from my older blog here is inherently good or evil, I post this. Good, because it’s recycling. Because, let’s face it, recycling is good. Right? Bad because it wastes pixels. […]

Continue Reading